अनछुए पहलू

क्या लिखूं

गजल: बद्दुआ, समझा- शिव काशी

मोल कैसे जाने जिसको मिल गया सब मुफ्त ही नाख़ुदा का डूबना…? थी कश्तियों की बद्दुआ काम सारे करता देखो कोसते फिर भी सभी मोबाइल … Read more

अनछुए पहलू

पिता- जिसके बिना जीवन की परिकल्पना करना भी ग़लत होगा

“पिता” एक ऐसा शब्द है जिसके बिना जीवन की परिकल्पना करना भी ग़लत होगा या कह सकते उनके बिना जीवन ही कहाँ संभव होगा। वो हैं … Read more

गाड़ी बुला रही है,सीटी बजा रही है,चलना ही जिंदगी है,चलती ही जा रही है

गाड़ी बुला रही है,सीटी बजा रही है,चलना ही जिंदगी है,चलती ही जा रही है

यानि अबतक ज़िन्दगी कुछ वक़्त के लिए थम सी गई थी, जिन पटरियों पर कभी ट्रेनों का आना जाना थमता ना था वो भी रुक … Read more